Sample Heading

Sample Heading

Success Stories of IIHR Technologies

Sl No. Title Description
1 रोपाई की अतिसघन विधि में गुलाबी गूदे वाली एवं उच्च उपजवाली .......

रोपाई की अतिसघन विधि में गुलाबी गूदे वाली एवं उच्च उपजवाली

2 खरीफ़ 2019 के दौरान और पछेती खरीफ़ में भिण्डी की एफ1 संकर किस्म “अर्का निकिता” के ....

  खरीफ़ 2019 के दौरान और पछेती खरीफ़ में भिण्डी की एफ1 संकर किस्म “अर्का निकिता” के जैविक उत्पादन की सफल गाथा

3 इक्रिसाट-आईआईएचआर भू-समृद्धि परियोजना के तहत चिकबल्लापुर में चाइना एस्टर की अर्का कामिनी का निष्पादन

चाइना एस्टर (कैलिस्टेफस चाइनेंसिस एल.) नई उभरती पुष्प फसल है। विश्व भर में घरेलू बाग में शोभाकारी पौधे के रूप में इसकी खेती की जा रही है। भा.कृ.अनु.प.-भा.बा.अनु.सं., बेंगलूरु ने उच्च पैदावार के लिए चाइना एस्टर की किस्म अर्का कामिनी की पहचान की है। कर्नाटक के चार जिलों में आईआईएचआर-इक्रिसाट भू-समृद्धि परियोजना के तहत इस किस्म को लोकप्रिय किया गया था। चिकबल्लापुर जिले के गौरीबिदनूर तहसील के यिदागुर गाँव के प्रगतिशील किसान श्री शिवानंदा ने खरीफ़ 2019-20 के दौरान अपने खेत में आधे एकड़ में चाइना एस्टर की अर्का कामिनी किस्म उगाई। श्री शिवानंदा को अर्का कामिनी के बीज आईआईएचआर-इक्रिसाट भू-सम

4 भिण्डी में अर्का सब्जी स्पेशल (सूक्ष्मपोषक तत्व) के निष्पादन की सफलता

उडुप्पि जिले के कुंदापुरा तहसील के अध्यापक व प्रगतिशील किसान श्री डी.के. मंजुनाथ ने रबी 2018-19 के दौरान अपने खेत में 0.25 एकड़ में देशी भिण्डी (सफ़ेद भिण्डी या हालुभिण्डी) उगाया। भा.कृ.अनु.प.-भा.बा.अनु.सं. के वैज्ञानिकों (डॉ. डी. कलैवण्णन और डॉ. पी.वी.आर. रेड्डी) और कृषि विज्ञान केंद्र, ब्रह्मावर के वैज्ञानिकों द्वारा इक्रिसैट-आईआईएचआर भू-समृद्धि परियोजना के तहत बैंदूर में चलाए प्रदर्शनों से अर्का सब्जी स्पेशल के लाभों को जानने के बाद श्री मंजुनाथ ने भा.कृ.अनु.प.-भा.बा.अनु.सं. के वैज्ञानिकों से संपर्क किया और और भा.कृ.अनु.प.-भा.बा.अनु.सं.

5 अर्का मंगला

इक्रिसैट-आईआईएचआर भू-समृद्धि परियोजना के तहत उडुप्पि में लंबी लोबिया की अर्का मंगला किस्म का निष्पादन

 

6 अर्का सब्जी स्पेशल (सूक्ष्म पोषकतत्व मिश्रण) का ‘उडुप्पि माट्टुगुल्ला’, एक भौगोलिक सूचक बैंगन का निष्पादन

 

7 भारत का पहला त्रिगुणित रोग प्रतिरोधी टमाटर एफ 1 संकर ‘’अर्का रक्षक’’ से आई किसानों के चेहरे पर रौनक

उपलब्धियां
 भारत में पहला सार्वजनिक त्रिगुणित रोग प्रतिरोधी टमाटर एफ 1 संकर ।
 उपज-क्षमता 18 कि.ग्रा. प्रति पादप।
 किसानों के खेतों में टमाटर के पत्ती मोड़क विषाणु, जीवाणुविक झुलसा एवं अगेती अंगमारी के प्रभाव को
झेलने में सफल।
 मौसम के आधार पर रू. 4-5 लाख प्रति एकड़ के दायरे में औसत शुद्ध आय प्राप्‍त की गई।
 पूर्ण उपज-क्षमता का दोहन करने हेतु सटीक कृषि विधियों का अंगीकरण।
टमाटर भारत में उगाई जाने वाली महत्‍वपूर्ण सब्‍जी फसलों में एक है। टमाटर की खेती करने वाले प्रमुख राज्‍यों में

8 Arka Meghana performance in farmer’s field at Nanjanagud Tq., Chamarajanagara Dist., Karnataka

Arka Meghana performance in farmer’s field

9 अनुज्ञप्ति के माध्यम से प्रौद्योगिकियों का व्यावसायीकरण – सफल गाथाएँ

भा.कृ.अनु.प.-भा.बा.अनु.सं., बेंगलूरु की संस्थान प्रौद्योगिकी प्रबंधन एवं व्यवसाय योजना इकाई के बागवानी प्रौद्योगिकी अनुज्ञप्ति एवं इनक्युबेशन मॉडल और इनक्युबेशन के लिए मज़बूत सहायता सुदूर व व्यापक स्तर पर प्रौद्य

10 बागवानी फसलों में सूत्रकृमि प्रबंधन के लिए जैव कीटनाशकों के प्रयोग की सफल गाथा

बागवानी फसलों में सूत्रकृमि प्रबंधन के लिए जैव कीटनाशकों के प्रयोग की सफल गाथा